Foods You Should Never Eat in Hindi

image source: shutterstock

हर इंसान की ईटिंग हैबिट्स यानी कि खानपान से जुड़ी हुई आदतें अलग अलग होती है. तो कुछ ऐसी ही 8 Foods You Should Never Eat in Hindi के बारे में बताने वाले हे. लोग सेहतमंद रहने के नजरिए से खाते हैं तो कुछ लोग केवल पेट भरने के लिए खाते हैं. कुछ लोग खाने-पीने में ज्यादा परहेज करते हैं तो कुछ लोग केवल स्वार्थ के पीछे ही भागते रहते हैं. आदतें चाहे जैसी भी हो रोजाना या कभी-कभी खाए जाने वाली चीजों को लेकर जो हमारी सोच और धारणा बनी हुई है.

उस पर हमारे आसपास के लोगों और माहौल का तथा टीवी पर बताए जाने वाले एडवर्टाइजमेंट का बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है और जाने-अनजाने हम ऐसी चीजें खाना और पसंद करना शुरू कर देते हैं जो कि हमारी सेहत के लिए बहुत ज्यादा हानिकारक होती है. तेजी से वजन बढ़ना, अक्सर पेट से जुड़ी हुई अलग-अलग समस्याएं होना लगातार दिमाग में फिजूल के ख्याल चलते रहना, ज्यादा आलस करना या थकान महसूस होना, अचानक त्वचा पर पिंपल, खुजली, इन्फेक्शन होना.

रात को ठीक से नींद ना आना, ट्रेस का बनना तथा आंखों में कमजोरी आना शरीर में ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल और शुगर बढ़ने के साथ-साथ जोड़ो तथा किडनी से संबंधित गंभीर बीमारियां केवल खानपान में गलत चीजों का अधिक सेवन करने से ही पैदा होती है.

इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे कुछ ऐसी खाई जाने वाली आम चीजों के बारे में जो कि हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होती है और जिनका हमें कम से कम सेवन करना चाहिए साथ ही हम यह भी जानेंगे कि अगर आप इन चीजों को खाते हैं तो इन्हें किस तरह और कितनी मात्रा में खाना चाहिए.

Foods You Should Never Eat in Hindi

1) चावल (Rice):-

चावल अगर गर्म गर्म दिन के समय खाई जाए तो इनसे हमें कोई नुकसान नहीं होता है. लेकिन अक्सर लोगों की आदत होती है रात के बचे हुए चावल अगले दिन खाने की. रात के बचे हुए चावल हमारी सेहत के लिए जितना हमें लगता है उससे कई ज्यादा हानिकारक हो सकते हैं. क्योंकि चावल पकने के बाद जब ठंडे हो जाते हैं तब उन पर वैसे लेस सीरियस नामक जीवाणु फैलने लगता है.

ठंडे चावल जितनी देर के लिए सामान्य ताप पर रखे होते हैं उतनी देर तक यह जीवाणु पूरी तरह चावल पर फैल कर उसे दूषित कर देता है और उन पर टॉक्सिंस यानी की एक विषैला पदार्थ फैला देता है. फिर चाहे चावल को दोबारा कितनी भी देर के लिए गर्म क्यों न कर लिया जाए यह विषैला पदार्थ चावल से बाहर नहीं निकलता और इस तरह के चावल को खाने पर फूड पॉइजनिंग होने के बहुत अधिक चांस होते हैं.

फूड पॉइजनिंग में उल्टी दस्त और पेट दर्द की समस्या के साथ-साथ सर्दी और शरीर में ताकत की कमी भी महसूस होती है. इसलिए इस प्रॉब्लम से बचने के लिए कोशिश करें कि चावल गर्म गर्म ही खाएं और अगर आप ठंडे चावल दोबारा इस्तेमाल करना चाहते हैं तो उन्हें पकाने के बाद पूरी तरह ठंडा होने से पहले ही फ्रिज के अंदर टाइप ढक्कन वाले डब्बे या बर्तन में ही डाल कर रखे. लेकिन ऐसा सिर्फ घर पर बनने वाले चावल के साथ ही करें. बाहर मिलने वाले चावल या उन से बनी डिशेस का किसी भी स्थिति में दोबारा इस्तेमाल ना करें.

2) चाय और कॉफी (Tea & Coffee):-

इसके अलावा चाय या कॉफी भी कई स्थितियों में हमारे शरीर के लिए बहुत अधिक हानिकारक हो सकती है. खासकर तब जब इसका सेवन खाली पेट किया जाये. हमारे पेट के खाली रहने का सबसे लंबा समय रात का समय होता है. और लंबे समय तक खाली रहने की वजह से हमारे पेट में एसिड की मात्रा बहुत अधिक बढ़ जाती है.

इसलिए सुबह उठते से ही उस एसिड को शांत करने के लिए 2 से 3 गिलास पानी पीने की सलाह दी जाती है लेकिन जो लोग खाली पेट बिना कुछ खाए चाय या कॉफी पीते हैं उनके शरीर में यह एसिड दुगनी रफ़्तार से बढ़ने लगती है. ऐसे में हाइपर एसिडिटी, कब्ज, गैस, अपाचन, त्वचा का काला पड़ना और बाल झड़ने जैसी समस्याएं समय के साथ साथ शुरू हो जाती है. चाय में कैफीन की मात्रा अधिक होने के कारण धीरे-धीरे इसकी आदत पड़ जाती है फिर चाहे दिन का समय हो या शाम का खाली पेट चाय पीना सीधे अपने पेट को जलाने के समान होता है.

चाय पीने से हमारे स्वास्थ्य को किसी भी तरह का लाभ नहीं मिलता और जब इसमें चीनी भी मिला दी जाती है तो इसके हमारे शरीर पर होने वाले बुरे प्रभाव 10 गुना और बढ़ जाते हैं. जिससे कि चाय या कॉफी का रोजाना पिया गया केवल एक कभी हड्डियों से लेकर त्वचा तक 50 से भी अधिक बीमारियां खड़ी कर सकता है. इसलिए चाय या कॉफी खाली पेट कभी भी ना पिए और कोशिश करें कि इन्हें पूरी तरह बंद ही कर दें.

3) कोल्ड ड्रिंक्स (Cold Drinks):-

इसके अलावा सोडा और कोल्ड ड्रिंक भी हमारे शरीर के लिए बहुत खतरनाक होती है. क्योंकि इनके अंदर जरूरत से ज्यादा शुगर और हानिकारक केमिकल पाए जाते हैं. पोषक तत्वों के नजरिए से अगर देखा जाए तो इनके अंदर एक भी ऐसी चीज नहीं होती है जो कि हमारे शरीर को किसी भी तरह का फायदा पहुंचाए.

सभी जानते हैं कि कोल्ड ड्रिंक पीने से मोटापा और चर्बी बहुत तेजी से बढ़ती है. लेकिन इससे बनने वाले मोटापे की खास बात यह है कि यह शरीर में अनचाहे जगहों पर ज्यादा इकट्ठा होता है. हाल ही में की गई एक स्टडी के अनुसार यह पता चला है कि जो लोग ज्यादा कोल्ड ड्रिंक पीते हैं वह कोल्ड ड्रिंक में पाई जाने वाली फास्फेट एसिड की वजह से उम्र से पहले ही बूढ़े हो जाते हैं. और दिखने में भी अपनी एक से 5 से 8 साल बड़े दिखाई देते हैं.

4) अचार (Pickles):-

रोजाना खाए जाने वाले भोजन के साथ चटनी अचार नमकीन होने पर खाने का स्वाद और अधिक बढ़ जाता है. लेकिन इसमें अचार एक ऐसी चीज है जिसका सेवन संतुलित मात्रा में करना बहुत जरूरी होता है. क्योंकि अचार वैसे तो हमारी सेहत के लिए फायदेमंद होता है. लेकिन अधिक मात्रा में इसका सेवन करने पर यह हमारे स्वास्थ्य के लिए घातक भी सिद्ध हो सकता है. ज्यादातर अचार बनाने में बहुत ज्यादा मसाले तेल और सिरके का इस्तेमाल होता है. तेज मसाले नमक और तेल की वजह से इसमें सोडियम की मात्रा भी बहुत अधिक होती है.

जो कि सीधे हमारे ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल को बहुत तेजी से बढ़ती है. और चुकी है स्वाद में बहुत अधिक खट्टा होता है इसलिए ज्यादा अचार खाने वाले लोगों को अक्सर बंद नाक, गले का दर्द, त्वचा पर तरह तरह की एलर्जी या गांठ के बनने के साथ-साथ हाइपर एसिडिटी और शरीर में सूजन आने की भी प्रॉब्लम हो सकती है. इसलिए अचार कभी-कभी और कम मात्रा में ही खाना चाहिए. एक बार में बहुत ज्यादा अचार का सेवन कभी नहीं करना चाहिए.

5) सोयाबीन का तेल (soybean oil):-

हर तरह का भोजन या पकवान बनाने में तेल सबसे मुख्य चीज होती है. ऐसे में सवाल उठता है कि कौन सा तेल हमारे स्वास्थ्य के लिए अच्छा है और कौन सा हानिकारक. हानिकारक तेल की अगर बात की जाए तो सोयाबीन का तेल हमारे स्वास्थ्य के लिए सबसे ज्यादा हानिकारक होता है. क्योंकि यह हमारे शरीर के पाचन तंत्र के बिल्कुल भी अनुकूल नहीं है. और इसके अंदर फाइटोएस्ट्रोजन की मात्रा बहुत अधिक होती है.

सोयाबीन का तेल या सोयाबीन से बनी हुई हर तरह की चीजों का ज्यादा सेवन करने से शरीर में फाइटोएस्ट्रोजन की मात्रा तेजी से बढ़ जाती है. जो कि पुरुषों और महिलाओं दोनों के ही शरीर के हॉर्मोन्स पर भयंकर रूप से बुरा प्रभाव डालती है. हॉर्मोन्स में गड़बड़ी आने पर थायराइड से लेकर गुप्त रोग और महिलाओं के रीप्रोडक्टिव सिस्टम से जुड़ी हुई कहीं तरह की बीमारी होने के बहुत अधिक चांस होते हैं. इसलिए खाना बनाने के लिए सोयाबीन ऑयल की जगह तिल, सरसों, नारियल या एक्स्ट्रा वर्जिन ओलिव ऑयल का इस्तेमाल करें.

6) अंडे (Eggs):-

जब भी सेहत बनाने या सेहतमंद रहने की बात आती है तब सबसे पहले रोजाना अंडे खाने की सलाह दी जाती है. एक ऐसा व्यक्ति जो रोजाना कसरत याने कि वर्कआउट करता हो या जिसकी रोजाना जिंदगी से बहुत अधिक शारीरिक मेहनत करने वाले कार्य जुड़े हो केवल ऐसे लोगों को ही अंडे खाने से नुकसान नहीं होता है. हालांकि अंडे खाने के काफी फायदे हैं.

लेकिन हॉल एक गाने की पूरा अंडा खाने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल भी बहुत तेजी से बढ़ता है. जो लोग रोजाना अंडा खाते हैं उनके शरीर में अंडे ना खाने वाले लोगों के मुकाबले कोलेस्ट्रॉल की मात्रा अधिक होती है. और हाई कोलेस्ट्रोल हमारे हार्ट के लिए सबसे ज्यादा खतरनाक होता है. इसके अलावा कई लोग अंडों को कच्चा बी खा जाते हैं. दूध, अंडा, मांस इस तरह की चीजें जो कि हमें किसी जानवर के जरिए मिलती हो उन्हें खाने से पहले पकाना बहुत ज्यादा जरूरी होता है.

क्योंकि इस तरह की चीजों को कच्चा खाने से salmonella poisoning होने के बहुत अधिक चांस होते हैं. जिसमें की उल्टी दस्त होने के साथ-साथ भयंकर रूप से पेट खराब और असहनीय पेट दर्द होने का खतरा रहता है. इसलिए अंडों को कच्चा कभी ना खाएं और पका कर खाने पर भी पहले यह निश्चित जरूर कर लें कि अंडे अच्छी क्वालिटी के ही हो.

7) पॉप कॉर्न (Pop Corn):-

पॉपकॉर्न जल्दी से बन जाने वाली एक ऐसी चीज है. जिसके हल्के वजन होने के कारण अक्सर लोगों को यह लगता है कि यह हमारी सेहत के लिए बिल्कुल भी हानिकारक नहीं हो सकते. लेकिन केवल घर पर बनाए जाने वाले पॉपकॉर्न्स को छोड़कर बाजार में मिलने वाले हर तरह के पॉपकॉर्न चाहे वह बने बनाए हो या पैकेट में आने वाले रेडी टू कुक पॉपकॉर्न हो.

हमारी सेहत के लिए बहुत ज्यादा नुकसानदायक होते हैं. क्योंकि इनके अंदर नमक, चीनी, तेल और आर्टिफिशियल कलर्स की मात्रा बहुत अधिक होती है. जो कि हमारे शरीर में बहुत अधिक चर्बी पैदा कर देती है. और ज्यादा पॉपकॉर्न खाने से हृदय संबंधित रोग होने के बी चांस होते हैं. इसलिए कोशिश करें कि बाहर मिलने वाले पॉपकॉर्न्स कम से कम खाएं.

8) कृत्रिम रंग (Artificial Colors):-

ऐसी खाए जाने वाली चीज है जिनमें आर्टिफिशियल कलर्स का इस्तेमाल किया गया हो. वह भी हमारे शरीर के लिए खतरनाक सिद्ध हो सकती है. खाई जाने वाली चीजों को दिखने में सुंदर और स्वादिष्ट बनाने के लिए आजकल फूड कलर्स का इस्तेमाल बहुत अधिक बढ़ता जा रहा है. बाजार में मिलने वाली ज्यादातर मीठी चीजें जैसे कि केक, आइसक्रीम, पैकिंग में मिलने वाले जूस और ड्रिंक्स, बर्फ का गोला और तरह-तरह की टॉफिया चॉकलेट्स में आर्टिफिशियल डाई का इस्तेमाल होता ही है.

और मीठे के अलावा पैकिंग में मिलने वाले नमकीन स्नैक्स और मसालों में भी आर्टिफिशियल डाई का इस्तेमाल इन लंबे समय तक ताजा और अच्छा दिखाने के लिए किया जाता है. आर्टिफिशियल कलर्स किसी भी तरह से इंसान के पेट में जाने के लिए बिल्कुल भी नहीं बने होते हैं. और ना ही सिर्फ पैकेट पर नेचुरल फूड कलर लिखा हुआ होने से इनके पूरी तरह प्राकृतिक होने की कोई गारंटी होती है. अलग-अलग कलर को बनाने के लिए अलग-अलग केमिकल का इस्तेमाल होता है.

और इसलिए हर कलर का हमारी सेहत और दिमाग पर अलग-अलग तरह से असर पड़ता है. नीले कलर का डाई हमारे दिमाग पर बुरा असर डालता है. वही हरा कलर हमारे ब्लेंडर यानी की मूत्राशय के लिए हानिकारक होता है. लाल टाई हमारे खून को अशुद्ध करने के साथ-साथ थायराइड के फंक्शन को भी खराब करता है. और इसके अलावा पीला कलर अस्थमा को बढ़ावा देने के साथ-साथ सूंघने की शक्ति को भी कमजोर कर सकता है. आर्टिफिशियल कलर का एक पूरी तरह सेहतमंद शरीर पर चाहे इतना असर ना हो लेकिन बच्चों पर इसका बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है. इसलिए कोशिश करे की कलर वाली चीजों का कम से कम इस्तेमाल करें.

आज इस आर्टिकल में 8 Foods You Should Never Eat in Hindi के बारे बताई गई सारी ही चीज है वैसे तो बहुत आम है. लेकिन फिर भी अगर हम चाहे तो थोड़ी सी सावधानी बरतकर इनका इस्तेमाल करना कम कर सकते हैं. अगर इस तरह की चीजों का सेवन पूरी तरह ही बंद कर दिया जाए तो हर व्यक्ति अपने शरीर को कई खतरनाक बीमारियों से बहुत ही आसानी से दूर रख सकता है.

और पढ़ें: 10 Best Shaving Tips For Men in Hindi

Categories: Health

About the Author

About the Author

Hello, I Am Parth Kanojiya. I Am A Founder And Author Of HindiAdviser. I Am A Blogger And I Share Internet Related Information For My Readers On This Blog.

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *