दोस्तों आजकल हर 10 लोगों में से 8 लोग ऐसे हैं जो एसिडिटी और पेट से संबंधित अन्य कई तरह की समस्याएं फेस कर रहे हैं। पेट यां सीने में जलन होना खट्टी डकारे आना, पेट में भारीपन लगना, खाना ठीक से ना पचना, कब्ज और गैस की समस्या, अपार आया पेट का फूलना और पेट में दर्द या सूजन। पर क्या आप जानते हे Gas Or Acidity Ke Gharelu Upay.

Gas Or Acidity Ke Gharelu Upay

image source: shutterstock

इस तरह के लक्षण एसिडिटी होने पर अक्सर देखे जाते हैं। एसिडिटी के कारण कभी-कभी हमारे फूडपाइप में भी जलन होती है। जिसे हार्टबर्न भी कहा जाता है। और इससे पेट में मौजूद एसिड की मात्रा बढ़ने पर एसिड कभी-कभी मुंह के रास्ते तक भी आ जाता है। कई बार मसालेदार खाना खा लेने से या फिर खाने के रूटीन में कुछ गड़बड़ी आ जाने के कारण एसिडिटी की प्रॉब्लम हो जाती है।

जो कि सामान्य समझा जाता है। लेकिन अगर यह प्रॉब्लम बार-बार या फिर रोज होने लग जाए तो यह एक गंभीर बीमारी भी बन सकती है। इसलिए ऐसा होने पर शुरुआत में ही इसके लिए सतर्क होना बहुत आवश्यक है। ज्यादातर लोग एसिडिटी को बहुत कॉमन समझकर इग्नौर भी कर देते हैं। परंतु यह पेट और पाचन से रिलेटेड रोग है और पाचन ही हमारे शरीर का मेन फंक्शन होता है।

इसका स्वस्थ रहना बहुत आवश्यक है। अगर पेट और पाचन सही नहीं रहता तो हंड्रेड परसेंट चांस होते हैं शरीर में किसी ना किसी तरह की बीमारी आने के। एसिडिटी की समस्या अगर बहुत ज्यादा बढ़ जाए तो पेट और छोटी आंत में अल्सर होने के साथ-साथ कैंसर तक का खतरा हो सकता है।

इसलिए सही समय पर इसका इलाज करना बहुत जरूरी है। ज्यादातर यह देखा गया है कि डॉक्टर द्वारा दी जाने वाली दवाइयों से एसिडिटी थोड़े समय के लिए ठीक तो हो जाती है और हमेशा के लिए खत्म नहीं हो पाती। और अक्सर ज्यादा दवाइयों का इस्तेमाल करने से या खाली पेट ली जाने वाली दवाइयों से एसिडिटी की प्रॉब्लम और ज्यादा गंभीर होती जाती है।

इसलिए दोस्तों आज मैं लेकर आया हूं कुछ बहुत ही असरदार और कारगर घरेलू नुस्खे जिनकी मदद से आप एसिडिटी की प्रॉब्लम को हमेशा के लिए जड़ से खत्म कर पाएंगे और साथ ही कुछ बहुत ही आवश्यक सावधानियां जिनका अगर आप ध्यान रखते हैं तो आपको यह प्रॉब्लम होगी ही नहीं।

तो दोस्तों सबसे पहले बात करते हैं उन नुस्खों की जिनकी मदद से एसिडिटी की प्रॉब्लम में तुरंत राहत मिलती है।

Gas Or Acidity Ke Gharelu Upay

1) ठंडा दूध और देसी घी :- 

इसके लिए हमें जरूरत होगी ठंडा दूध और देसी घी की। एक गिलास पानी में लगभग 20ml ठंडे दूध को मिलाकर उसमें एक चम्मच देसी घी मिलाएं इन दोनों चीजों को आपस में अच्छी तरह मिलाकर इसका सेवन करें। जब भी एसिडिटी की प्रॉब्लम हो तो इसे पीने से तुरंत राहत मिलती है।

ठंडे दूध और घी को मिलाकर इसका सेवन करने से पेट में मौजूद एसिडिटी शांत होती है। और साथ ही जलन और पेट दर्द जैसी समस्याओं पर भी इसका तेजी से असर होता है। जिन लोगों को भी पेट में अक्सर एसिडिटी या जलन रहती है वह हर बार खाना खाने के बाद इसका सेवन कर सकते हैं। और अगर आप चाहे तो बिना घी के बीच में ठंडे दूध का भी सेवन किया जा सकता है।

2) हल्दी, काला, नमक, जीरा और नींबू :-

इसके अलावा एक और नुस्खा है जो एसिडिटी होने पर तुरंत राहत प्रदान करता है। इसके लिए हमें जरूरत होगी हल्दी काला नमक जीरा और नींबू की। सबसे पहले जीरे को भूनकर उसका पाउडर बना लें। आधा टीस्पून जीरा पाउडर में आधा टी स्पून हल्दी को मिलाकर आधा टीस्पून काला नमक मिलाएं फिर इस मिश्रण में हमें एक से डेढ़ चम्मच गर्म नींबू का रस मिलाना है नींबू के रस को गर्म करने के लिए एक नींबू को बीच में से काट लें फिर आधे कटे हुए नींबू को केवल एक तरफ से गैस के ऊपर पूरी आज पर 30 से 40 सेकंड तक सके।

इसको सीखने के लिए हमें इसे चिमटे की सहायता से हाथ के ऊपर से पकड़ कर रखना है ऐसा करने से या थोड़ा-थोड़ा जल जाएगा। अगर ध्यान रहे कि इसे बहुत ज्यादा ना जलाएं बनना इसका असर उलटा भी हो सकता है। नींबू पूरी तरह गर्म हो जाने के बाद तुरंत इसका रस निकाल ले और बाकी सारी चीजों के साथ मिलाकर इसका सेवन करें। दोस्तों इसको लेने के 30 सेकंड बाद ही इसका असर होना शुरू हो जाता है। क्योंकि इससे आपको थोड़ी डकारे आ जाती है जिससे आपका पेट हल्का होने लग जाता है।

और फिर थोड़ी देर में ही एसिडिटी की प्रॉब्लम खत्म हो जाती है। यह एक बहुत ही असरदार एंटासिड की तरह काम करता है। और पेट में जलन भारीपन या फिर सूजन के लिए यह बहुत ही कारगर नुस्खा है। इसका इस्तेमाल आप सुबह, दोपहर या शाम किसी भी टाइम कर सकते हैं। जिस समय भी आप को प्रॉब्लम हो कुछ समय तुरंत राहत के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

3) छाछ :-

इसके अलावा छाछ यानी की buttermilk भी एसिडिटी में बहुत फायदेमंद होता है। छाछ के अंदर लैक्टिक एसिड पाया जाता है जो कि हमारे पेट में एसिडिटी और अमृता को कम करता है। और साथ ही इसमें कैल्शियम, विटामिन और पोटेशियम भी होता है।

जोकि हमारी सेहत को भी बहुत अच्छा बनाता है। एक गिलास छाछ में काली मिर्च पाउडर, भुना हुआ जीरा पाउडर, काला नमक और गुड़ मिलाकर रोजाना दिन में खाना खाने के बाद इसका सेवन करें। इसका स्वाद भी अच्छा होता है और रोजाना इस दिन का सेवन करने से हमारे पेट में एसिडिटी गैस कब्ज आदि किसी भी तरह की समस्याएं नहीं होती है।

4) खीरा, तुलसी के पत्ते और अजवाइन :-

इसके अलावा एक नुस्खा और है। इसे बनाने के लिए आपको जरूरत होगी खीरा, तुलसी के पत्ते और अजवाइन। सबसे पहले तुलसी के पत्तों को पीसकर इसकी चटनी बना ले। इसके बाद हमें खीरे का जूस बनाना है। खीरे का जूस हमें छिलके के साथ ही बनाना है।

फिर एक गिलास खीरे के जूस में एक चम्मच तुलसी की चटनी और आधा टीस्पून अजवाइन का पाउडर मिलाएं। उसके बाद यह ड्रिंक तैयार हो जाएगा। इस ड्रिंक में मौजूद खीरा हमारे शरीर को हाइड्रेट करके उसमें टॉक्सिंस की मात्रा को कम करता है। जिससे हमारे शरीर में एसिड का लेवल कम होता है। और साथ ही तुलसी हमारे पेट को ठंडक प्रदान करके पेट में होने वाली जलन को दूर करती है।

5) एलोवेरा जूस :-

इनके अलावा एलोवेरा जूस भी एसिडिटी की समस्या में बहुत असरदार होता है। रोजाना सुबह खाली पेट एलोवेरा का जूस पीने से यहां हमारे शरीर में एसिड की मात्रा को तेजी से कम करता है। जिससे समय के साथ-साथ एसिडिटी हमेशा के लिए खत्म हो जाती है। अगर ज्यादा एसिडिटी या पेट में जलन की दिक्कत हो तो दिन में दो से तीन बार एलोवेरा का जूस पीना चाहिए।

6) लोंग, इलाइची, सोफ़, गुड, जीरा और आंवले का पाउडर :-

इसके अलावा लोंग, इलाइची, सोफ़, गुड, जीरा और आंवले का पाउडर। यह सारी चीजें भी खाने के बाद खाई जा सकती है। इन सभी में इंटैसिप प्रॉपर्टीज पाई जाती है। अगर आप चाहे तो इनमें से किसी एक या दो चीजों का खाना खाने के बाद इस्तेमाल कर सकते है। खाना खाने के बाद केवल लोगों को चबाने से इसके अंदर पाए जाने वाला रास हमारे लार के साथ पेट में जाता है। और खाने को पचाने की प्रक्रिया को तेज करके पेट में अम्ल की मात्रा को कम करता है।

7) इलायची :-

इसके अलावा इलायची शरीर में वात और पित्त यानी की गैस और एसिडिटी प्रॉब्लम को बहुत तेजी से ठीक करती है। खाने के बाद एक से दो इलायची या इलायची के पाउडर को मिश्री के साथ भी लिया जा सकता है।

8) सौंफ और गुड़ :-

इसके अलावा भोजन के बाद सौंफ और गुड़ खाने से यहां हमारे पाचन की क्रिया को अच्छा करता है। और भोजन के अच्छी तरह पचने से हमें कब्ज और गैस की समस्या भी नहीं होती है।

इसके अलावा अगर आपको एसिडिटी और पेट से रिलेटेड समस्या बहुत ज्यादा है तो उसके लिए कुछ आयुर्वेदिक नुस्खों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

9) अविपत्तिकर चूर्ण :-

पेट में एसिडिटी और अन्य पेट से संबंधित समस्याओं के लिए अविपत्तिकर चूर्ण का इस्तेमाल बहुत अच्छा होता है। यह आपको किसी भी आयुर्वेदिक स्टोर पर बहुत आसानी से मिल जाएगा। या फिर आप चाहे तो इससे ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं। इस चरण के अंदर कहीं तरह की आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का मिश्रण होता है।

जो कि हमारे पाचन अंगों को मजबूती प्रदान करता है। यह पेट की एसिडिटी को दूर करने के अलावा हार्टबर्न, कॉन्स्टिपेशन, क्रॉनिक, गैस्ट्राइटिस और इनडाइजेशन यानी कि अपचन की समस्या को भी दूर करता है। इसका इस्तेमाल आधा चम्मच दिन में एक बार भोजन करने से पहले मिश्री के साथ मिलाकर किया जा सकता है। एसिडिटी और पेट से रिलेटेड सभी समस्याओं के लिए सबसे असरदार औषधि है।

इसी के साथ हम उम्मीद करते है की आपको ये Gas Or Acidity Ke Gharelu Upay समज आ गए होंगे। और यह नुस्खे आपके जीवन में बहुत ही कारगर सिद्ध होंगे।

और पढ़ें: How To increase Testosterone in Hindi

Categories: Health

About the Author

About the Author

Hello, I Am Parth Kanojiya. I Am A Founder And Author Of HindiAdviser. I Am A Blogger And I Share Internet Related Information For My Readers On This Blog.

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *