Motherboard Kya Hai

दोस्तों अगर आप कंप्यूटर का इस्तेमाल करते है तो आपने मदरबोर्ड के बारे में जरूर सुना होगा. लेकिन ऐसे में क्या आप जानते है की मदरबोर्ड क्या है (Motherboard Kya Hai-What is Motherboard in hindi)? इसका सामान्य रूप से क्या यूज़ होता है? मदरबोर्ड में जो अलग अलग कंपोनेंट्स होते है उसका क्या यूज़ है? तो ये सब जानने के लिए इस आर्टिकल को शुरू से लेके आखिर तक पढ़िए.

Table of Contents

मदरबोर्ड क्या है? – Motherboard Kya Hai

मदरबॉर्ड कंप्यूटर में मुख्य Printed Circuit Board(PCB) होता है जो कंप्यूटर या लैपटॉप के पार्ट्स जैसे कि CPU, PROCESSOR, RAM, HARD DRIVE(HDD) और GRAPHIC CARD आदि के बिच में कनेक्टिविटी पहुंचने का काम करता है.

इसके अलावा मदरबोर्ड में दिए गए पोर्ट आपको बाहरी उपकरणों को कम्प्यूटर से कनेक्ट करने की अनुमति देता है. जैसे की मॉनिटर, स्पीकर, कीबोर्ड, माउस और USB आदि.

अलग अलग प्रकार के मदरबोर्ड को विशेष प्रकार के प्रोसेसर और मेमोरी के साथ काम करने के लिए बनाया जाता है.

मदरबोर्ड के प्रकार – Types Of Motherboard

मदरबोर्ड सामान्य रूप से 4 प्रकार के होते है.

  1. Mini ITX
  2. Micro ATX
  3. Standard ATX
  4. EATX

1) Mini ITX Motherboard

Mini ITX मदरबोर्ड सामान्य रूप से 6.7 x 6.7 इंच के होते है. ये मदरबोर्ड सबसे छूटा है. Mini ITX में आपको बोहत ही कम USB कनेक्टर मिलते है. ये मदरबोर्ड के अंदर केवल 1 PCI SLOT ही मिलता है. जिनकी वजह से आप कभी भी कोई सा भी card लगाना चाहते है तो केवल एक ही card लगा सकते है. Mini ITX के छोटे से आकर और कम ठंडक वाले कूलिंग फैन की वजह से ये बिजली की कम खपत करते है.

2) Micro ATX Motherboard

Micro ATX सामान्य रूप से 9.6 × 9.6 इंच के होते है. इसमें आपको Mini ITX के मुकाबले थोड़े से ज्यादा USB कनेक्टर मिल जाते है. इसके आलावा Micro ATX में चार PCI SLOTS और 4 Ram slots भी मिल जाते है. ये मदरबोर्ड का इस्तेमाल करके आप छूटा PC बिल्ड कर सकते है.

3) Standard ATX Motherboard

Standard ATX का मतलब Advanced Technology Extended है. ATX मदरबोर्ड सामान्य रूप से 12 x 9.6 इंच का होता है. इसमें आपको 6 PCI SLOTS और 4 RAM SLOTS मिल जाते है. इसके आलावा इसमें HDMI भी मिल जाता है.

4) E-ATX Motherboard

E-ATX मदरबोर्ड मुख्य रूप से गेमिंग के लिए यूज़ किया जाता है. E-ATX मदरबोर्ड सभी मदरबोर्ड की तुलना में बहुत बड़े होते है. इसमें आपको 7 PCI SLOTS और 8 ram slots मिल जाते है. इसमें 4-10 USB PORTS मिल जाते है. E-ATX मदरबोर्ड में 128 GB RAM लगाई जा सकती है. इसके आलावा इनबिल्ट वाईफाई, साउंड कार्ड और वीआरएम मिल हैं.

मदरबोर्ड फंक्शन – Motherboard Function

  1. कंप्यूटर या फिर लैपटॉप में मदरबोर्ड एक बैकबोन के रूप में काम करता है जिसके ऊपर CPU, RAM, HARD DISK जैसे अन्य कई सारे पार्ट स्थापित होते है.
  2. मदरबोर्ड में सर्किट बोर्ड PCB (Printed Circuit Board) होता है. जिसपे अलग अलग रास्ते होते है जिसको बसेस (Buses) के नाम से भी जाना जाता है. ये बसेस कंप्यूटर या लैपटॉप के सभी कॉम्पोनेन्ट को डाटा ट्रांसफर करने में मदद करता है.
  3. मदरबोर्ड कंप्यूटर या लैपटॉप के अलग अलग कॉम्पोनेन्ट को शक्ति प्रसारित करने के लिए जिम्मेदार है.
  4. मदरबोर्ड में BIOS (Basic input/Output System) लगा हुआ होता है. BIOS (Basic input/Output System) आपके कंप्यूटर या लैपटॉप का जब power on होता है तब बूटिंग प्रक्रिया को सहायता देता है.

मदरबोर्ड के भागों और कार्यों – Motherboard Parts And Functions

Motherboard Kya Hai

image source: Pixabay

1) पिएस/2 कनेक्टर – PS/2 CONNECTOR

PS/2 का पूरा नाम “Personal System/2” है. PS/2 कनेक्टर 6-pin Mini-DIN कनेक्टर होते है. जो कीबोर्ड और माउस जैसे उपकरणों को कंप्यूटर से जोड़ने के लिए उपयोग किया जाता है.

2) युएसबी कनेक्टर – USB CONNECTOR

USB कनेक्टर का पूरा नाम “Universal serial bus” है. USB बड़े तोर पर keyboard, scanner, printer और pendrive जैसे उपकरणों को कंप्यूटर से जोड़ने में मदद करता है.

3) सीपीयू चिप – CPU CHIP

CPU का पूरा नाम “Central Processing Unit” है, इसेको “Microprocessor” भी कहा जाता है. CPU कंप्यूटर या लैपटॉप के दिमाग के रूप में काम करता है. CPU Logical रूप से सम्बंधित सभी एक्टिविटीज़ को करने में योग्य है.

4) सीपीयू सॉकेट – CPU SOCKET

CPU socket कंप्यूटर के अंदर मदरबोर्ड में लगा हुआ वो पार्ट होता है जिस पर processor लगाया जाता है. हर कंप्यूटर में processor को कंप्यूटर की क्षमता के अनुसार लगाया जाता है. जैसे की आपने सुना होगा P1, P2, Dual Core, Quad Core, Octa Core, Core i3, Core i5, Core i7 और Core i9 Etc.

5) रेम स्लॉट – RAM SLOT

मदरबोर्ड पर RAM को कनेक्ट करने के लिए RAM Slot का उपयोग होता है. ये कंप्यूटर का बोहत ही महत्वपूर्ण पार्ट होता है.

6) आईडीइ कंट्रोलर – IDE CONTROLLER

IDE कंट्रोलर का पूरा नाम “Integrated Drive Electronics” है. IDE Controller को PATA के नाम से भी जाना जाता है. IDE का मुख्य काम Hard Drive की Activities को नियंत्रित करना है.

7) पिसीआई स्लॉट – PCI SLOT

PCI का पूरा नाम “Peripheral component interconnect” है. PCI Slot की मदद से आप अपने कंप्यूटर में network cards, video cards और sound cards लगा सकते हो.

8) आईएसए स्लॉट – ISA SLOT

ISA का पूरा नाम “Industry Standard Architecture” है. मदरबोर्ड विभिन्न ISA कम्पेटिबल कार्ड्स को स्वीकार करने की अनुमति देता है.

9) सिमोस बैटरी – CMOS BATTERY

CMOS का पूरा नाम “Complementary Metal-Oxide-Semiconductor” है. CMOS Battery का मुख्या काम कंप्यूटर के पावर बंद होने पर समय और तारीख की chip को चालू रखना है.

10) ऐजीपी स्लॉट – AGP SLOT

AGP का पूरा नाम “Accelerated Graphics Port” है. AGP Slot का सबसे ज्यादा कंप्यूटर में उपयोग होता है. AGP Slot का इस्तेमाल video cards को कंप्यूटर से जोड़ने के लिए किया जाता है.

11) बायोस – BIOS

Bios का का पूरा नाम “Basic Input/Output System” है. ये एक तरह का चिप होता है जो सभी मदरबोर्ड में स्थित होता है. Bios का मुख्य काम आपके कंप्यूटर सिस्टम को कैसे boot होना चाहिए और कैसे काम करना चाहिए यही है.

12) नॉर्थ ब्रिज – NORTH BRIDGE

NorthBridge कंप्यूटर में मौजूद एक मुख्य चिप है जो Central Processing Unit (CPU) को सिस्टम के अन्य कॉम्पोनेन्ट जैसे की Ram, Front Bus, PCI Cards और Agp Cards के साथ जोड़ता है.

13) साउथ ब्रिज – SOUTH BRIDGE

SouthBridge कंप्यूटर में मौजूद एक मुख्य चिप है जो कंप्यूटर के सभी I/O (input/output) फंक्शन को manage करता है. जैसे की USB, Audio, Serial, System BIOS, ISA bus, interrupt controller और IDE channels.

14) स्वीट्चेस और जंपर्स – SWITCHES AND JUMPERS

मदरबोर्ड में जम्पर के तीन प्रकार डीआईपी, जम्पर पिन और जम्पर कैप है. डीआईपी स्विच को मदरबोर्ड पे रखा जाता है इसमें चालू और बंद करने के लिए फ्लेक्सिबिलिटी होती है. सर्किट को पूरा करने के लिए एक पूल बनाया जाता है जिसके लिए जम्पर पिन का इस्तेमाल किया जाता है. जम्पर कैप का इस्तेमाल सभी तरह के एक्सपेंशन कार्ड्स को कॉन्फ़िगर करने के लिए किया जाता है.

15) कैपेसिटर्स – CAPACITORS

मदरबोर्ड में कैपेसिटर इलेक्ट्रिक फील्ड में एनर्जी को इकट्ठा यानि सेव करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

16) फ्लॉपी डिस्क स्लॉट – FLOPPY DISK SLOT

कंप्यूटर में फ्लॉपी डिस्क स्लॉट का उपयोग CPU में फ्लॉपी ड्राइव को लगाने के लिए होता है.

17) सीपीयू – CPU

CPU का पूरा नाम Central Processing Unit है. CPU कंप्यूटर या लैपटॉप एक इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोचिप है. जो डाटा को जानकारी में परिवर्तित करता है. cpu पुरे कंप्यूटर सिस्टम को कण्ट्रोल करता है.

18) सीपीयू फैन – CPU FAN

कंप्यूटर या लैपटॉप में CPU Fan प्रोसेसर के ऊपर लगा हुआ होता है. CPU Fan का काम प्रोसेसर को गर्म होने से बचाना है.

19) हीट सिंक – HEAT SINK

Heat Sink मदरबोर्ड में लगा हुआ एक ऐसा घटक है जो किसी भी उपकरण के आसपास की गर्मी को ख़तम करता है और ठंडा करता है. इसका इस्तेमाल आमतौर पर सीपीयू और ग्राफ़िक कार्ड के लिए किया जाता है.

20) पैरेलल पोर्ट – PARALLEL PORT

Parallel Port को आमतौर पर प्रिंटर पोर्ट भी कहते है. Parallel Port का इस्तेमाल कंप्यूटर पर बहारी उपकरणों को कनेक्ट करने के लिए किया जाता है. उदाहरण के लिए: Printer

21) लैन पोर्ट – LAN PORT

LAN का पूरा नाम local area network हे. जोकि कंप्यूटर या लैपटॉप में LAN PORT के जरिये वायर्ड के माध्यम से कंप्यूटर में इंटरनेट प्रदान करता है.

22) यूएसबी पोर्ट – USB PORT

USB का पूरा नाम Universal Serial Bus है. USB PORT का इस्तेमाल
Pendrive, Keyboard, WiFi Adapter आदि को कंप्यूटर या लैपटॉप में कनेक्ट करने के लिए किया जाता है.

23) ऑडियो पोर्ट – AUDIO PORT

मदरबोर्ड में ऑडियो पोर्ट एक ऐसा पोर्ट जिसमे आप अपने हेडफोन, स्पीकर, होम थिएटर आदि के जैसे उपकरण कंप्यूटर से कनेक्ट कर सकते हो.

24) वीजीए पोर्ट – VGA PORT

VGA का पूरा नाम Video Graphics Array है. VGA PORT सामान्य तोर पे 15-Pins के होते है. VGA PORT का इस्तेमाल पुराने मॉनिटर और प्रोजेक्टर में होता है.

25) मदरबोर्ड कोइल – MOTHERBOARD COIL

मदरबोर्ड में coils का काम पावर स्पाइक्स और डिप्स को पावर से हटाने का है.

मदरबोर्ड की विशेषताएं – Features Of Motherboard

  1. कंप्यूटर के मदरबोर्ड में कई तरह के कॉम्पोनेन्ट होते है लेकिन मदरबोर्ड केवल एक CPU को समर्थन देता है.
  2. मदरबोर्ड में उपयोगकर्ता एक्सपेंशन कार्ड को ऐड करके मदरबोर्ड के एक्स्ट्रा कार्यक्षमता का इस्तेमाल कर सकते है.
  3. कई मदरबोर्ड में उपयोगकर्ता एक से ज्यादा हार्ड ड्राइव का इस्तेमाल कर सकते है.
  4. मदरबोर्ड को ऐसा बनाया गया है की उपयोगकर्ता अपने आप ही किसी भी तरह के कम्पोनेट्स को बदल सकते है.
  5. अगर उपयोगकर्ता गेम्स और कई बड़े सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करते है तो उन्हें मदरबोर्ड की पावर बढ़ाने की आवश्यकता पड़ सकती है. इसलिए उपयोगकर्ता मदरबोर्ड में रेम, ग्राफ़िक कार्ड्स आदि को ऐड करके मदरबोर्ड के पावर को बढ़ा सकते है.

मदरबोर्ड निर्माताओं की सूची – List Of Motherboard Manufacturers

  • एसर – (Acer)
  • अक्यूब सिस्टम्स – (ACube Systems)
  • अडेक्स इलेक्ट्रॉनिक्स  – (Adex Electronics)
  • अल्बेट्रोन – (Albatron)
  • अली – (ALi)
  • अओपेन – (AOpen)
  • एएसरोक – (ASRock)
  • आसुस – (ASUS)
  • आसुसटेक – (ASUSTeK)
  • बायोस्टार – (BIOSTAR)
  • चैनटेक – (Chaintech)
  • डीएफआई – (DFI)
  • इसीएस – (ECS)
  • ईलाइटग्रुप कंप्यूटर सिस्टम – (Elitegroup Computer Systems)
  • इविजीए – (EVGA)
  • फॉक्सकोंन – (Foxconn)
  • जनरल स्टैंडर्ड्स – (General standards)
  • गीगाबाइट – (GIGABYTE)
  • गूमस्टिक्स – (Gumstix)
  • इंटेल – (Intel)
  • कोंट्रोन – (Kontron)
  • लीडटेक – (Leadtek)
  • एमएसआई/माइक्रो-स्टार – (MSI/Micro-Star)
  • साफ्हिरे टेक्नोलॉजी – (Sapphire Technology)
  • एसबीएस बिट 3 – (SBS Bit 3)
  • एसबीएस टेक्नोलॉजीस – (SBS technologies)
  • शटल – (Shuttle)
  • सुपरमाइक्रो – (Supermicro)
  • सिट्रन – (Systran)
  • ट्रेन्टोन टेक्नोलॉजी – (Trenton Technology)
  • टुंड्रा – (Tundra)
  • त्यान – (Tyan)
  • क्सिलिन्क्स – (Xilinx)
  • ज़ोटेक – (Zotac)

मदरबोर्ड क्या करता है – What Does A Motherboard Do

मदरबोर्ड कंप्यूटर का एक ऐसा पार्ट है जो एक ही जगह पर रहकर सारे कंप्यूटर के कम्पोनेंट्स को एक दूसरे के साथ कनेक्ट करता है. जिससे कंप्यूटर अच्छी तरह से काम कर पाता है. मदरबोर्ड के बिना कंप्यूटर में कोई भी कम्पोनेंट्स एक दूसरे के साथ कनेक्ट नहीं हो सकते. इसलिए मदरबोर्ड कंप्यूटर या लैपटॉप लिए बहुत ही महत्वपूर्ण भाग है.

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में आपको Motherboard Kya Hai (What is Motherboard in Hindi), मदरबोर्ड के प्रकार, मदरबोर्ड फंक्शन और मदरबोर्ड के भागों और कार्यों के बारे में अच्छे से पता चल गया होगा.

तो हम उम्मीद करते है आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा. तो प्लीज ये पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा सोशल मीडिया पे शेयर करिये और किसी भी तरह के सवाल को हमे कमेंट करके बताइये. धन्यवाद.

और पढ़ें: ये 10 बुरी आदतें छोड़ दे | Bad Habits In Hindi

Categories: TechComputer

About the Author

About the Author

Hello, I Am Parth Kanojiya. I Am A Founder And Author Of HindiAdviser. I Am A Blogger And I Share Internet Related Information For My Readers On This Blog.

0 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *